Blogger Blog Ki Settings Kaise Kare | website seo setting

Update: अगस्त 9, 2020

Blogger ब्लॉग वेबसाइट की सेटिंग करना सिखे, Best SEO Friendly

जैसा कि दोस्तों पहले की पोस्ट में हमने मोबाइल फोन को हैंग होने से कैसे रोके और वायरस से सुरक्षा कैसे करें इस बारे में पढ़ा था, और इस पोस्ट को पढ़ने के बाद हमने मोबाइल फोन से फोटो बनाने के 5 बेस्ट एप्स कौनसे हैं इस बारे में पढ़ा था, और आज आपका सवाल हैैं। कि [ब्लॉगर ब्लॉग वेबसाइट की सेटिंग कैसे करें?]  

तो दोस्तों आज मैं आपके इसी सवाल का जवाब इस पोस्ट में देने वाला हूं तो 'friend's' इस पोस्ट को 'पॉइंट टू पॉइंट' लास्ट तक पढ़ें 'ताकि' आपको ब्लॉग की सेटिंग करने केे बारे मैंं पूरी जानकारी अच्छे सेेेे समझ में आ जाए।

Blogger/ब्लोग वेबसाइट की सेटिंग करना सिखे, Blogger website ki setting Set kaise kare, blog me best seo setting kare, website, seo, Blogger/blog Ki 16 settings set up
Blogger ब्लॉग वेबसाइट की सेटिंग करना सिखे, Best SEO Friendly


क्या ब्लॉग वेबसाइट की सेटिंग करना जरूरी है?

जी हां अपने ब्लॉग को अच्छे से set-up करने के लिए, उसे गूगल पर इंडेक्स करने के लिए, ब्लॉग की कुछ जरूरी सेटिंग में अपनी इच्छा अनुसार बदलाव करने और उसे अपने ब्लॉग पर लागू करने के लिए, ब्लॉग की सेटिंग करना बहुत जरूरी हैं।

इसलिए आप इस पोस्ट को बिना skip किये अंत तक पढ़े, क्योंकि कौनसी setting कितनी जरूरी है, यह आप नहीं जानते होंगे। इसलिए इस पोस्ट को लास्ट तक पढ़ना सुनिश्चित करें।

क्योंकि इस पोस्ट में हम ब्लॉगर ब्लॉग की लगभग सभी settings को आसान शब्दों में कवर करने वाले हैं। 

Blogger में blog website की settings कैसे करें?

तो अपनी 'ब्लॉग वेबसाइट' की सेटिंग करने के लिए अपने Blogger dashboard में (settings) आईकन पर क्लिक करें।

अब आपके सामने आपके ब्लॉग की सभी सेटिंग एक ही पेज पर ओपन हो जाएगी, लेकिन अलग-अलग नाम से अलग-अलग भागों में शामिल है।

जैसे नीचे यहा ब्लॉगर की सभी मेन सेटिंग्स की सूची दी गई है, जिसे आप विस्तार से देख सकते हैं।

(1) Basic

(2) privacy

(3) publishing

(4) HTTPS

(5) permissions

(6) posts

(7) Comments

(8) Email

(9) Formatting

(10) Meta tag

(11) error & redirect

(12) crawler and indexing

(13) monetization

(14) manage Blog

(15) Site feed

(16) General

तो दोस्तों यह थी, ब्लॉग की सभी सेटिंग्स की सूूूची व उनके नाम, तो अब हम ऊपर दी गई सूची सेटिग्स में सेे एक-एक सेटिंग के अंदर जो सेटिंग होंगी, उन्हे हमे set-up करना है।

जी हां ऊपर दी गई सूची में जो सेटिंग नाम है, वह ब्लॉग की सभी सेटिंग के अलग-अलग भागों के नाम हैं। और इनके अंडर में जो settings हैं हमे उन्हें set-up करना है। तो फिर बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं।

Blogger में blog/website की settings कैसे करें?

(1) Basic - (बुनियादी सेटिंग)

तो दोस्तों अभी हम सबसे पहले वाली सेटिंग basic मैं चल रहे हैं तो चलिए अब हम इन्हें सेट-अप करना (Basic) सेटिंग के पहले 'ऑप्शन' से शुरू करते हैं, नीचे की स्लाइड में पढ़ें।

(A) title: इसमें आपके ब्लॉग का नाम होता हैं, वह नाम जिसेे आपने blog website बनातेे समय ब्लॉग 'title' नाम से जोड़ा था। और अगर आप इस नाम को 'गूगल' पर जाकर सर्च करते हैं तो आपकी वेबसाइट 'गूगल सर्च' नतीजों में दिखाई दे सकती हैं, यदि गूगल ने उसे इंडेक्स कर लिया हैं, तो।

और यदि गूगल ने आपकी ब्लॉग/वेबसाइट को इंडेक्स नहीं किया है, तो आपका ब्लॉग गूगल सर्च नतीजों में दिखाई नहीं देेेेगा।

क्या बदलाव करें? 

कुछ लोग title बॉक्स में बहुत अधिक सर्च होने वाला कीवर्ड डाल देते हैं, जो उनके ब्लॉग से रिलेटेड होता हैं।

आप भी डाल सकते हैं, लेकिन यदि आप अपने ब्लॉग पर किसी एक विषय पर ही पोस्ट लिखते हैं। तो आप टाइटल बॉक्स में बहुत अधिक सर्च होने वाला जो आपके विषय से रिलेटेड कीवर्ड है, उसे आप टाइटल बॉक्स में डाल सकते हैं।

और यदि आप अपने ब्लॉग पर कहीं विषय पर पोस्ट लिखते हैं तो मैं आपको सलाह दूंगा, कि आप अपने ब्लॉग पर कीवर्ड के बजाय सिर्फ अपने ब्लॉग का नाम ही रखें।

क्योंः क्योंकि आपके ब्लॉग 'होम पेज' पर गूगल ओरिजिनल सर्च से आने वाले उपयोगकर्ता भ्रमित हो सकते हैं।

हो सकता है, उपयोगकर्ता ने गूगल में किसी ऐसे keyword पर सर्च किया है। जो केवल आपके ब्लॉग टाइटल से रिलेटेड है, और आपका ब्लॉग वहां पर शो हो जाता है।

 और जब उपयोगकर्ता क्लिक करके आपके ब्लॉग पर आता है और वह उस कीवर्ड से रिलेटेड पोस्ट के बजाय कही विषय से रिलेटेड पोस्ट देखता है। तो वह भ्रमित होता है, और वह तुरंत आपके ब्लॉग से निकल जाएगा, जिससे आपके ब्लॉग की उछाल दर बढ़ सकती है।

और यदि आप एक विषय से रिलेटेड पोस्ट लिखते हैं, तो आप बेझिझक किसी अच्छे कीवर्ड पर आपने ब्लॉग को टारगेट कर सकते हैं, और उसे गूगल पर रैंक करवा सकते हैं।

(B) Description: तो friend's Description में हमें अपने ब्लॉग के लिए एक अच्छा सा विवरण लिखना है।

विवरण में क्या लिखें?

इसमे आप अपने ब्लॉग के बारे में पैराग्राफ़ लिख सकते हैं, और पैराग्राफ़ में आप अपने विजिटर और गूगल को बता सकते हैं। कि आप अपने ब्लॉग पर किस विषय पर पोस्ट लिखने वाले हैं, और उपयोगकर्ता आपके ब्लॉग से क्या उम्मीद कर सकते हैं।

तो इस (विवरण) में आप अपने ब्लॉग के एक मकसद के बारे में बता सकते है, की आपने यह ब्लॉग 'किस' लिए बनाया हैं।

और 'विजिटर' को आपके ब्लॉग पर क्यों आना चाहिए जिससे कि विजिटर को आपके ब्लॉग पर आने के बाद, उन्हें उनके काम की चीजें मिल सके, और विजिटर आपके ब्लॉग पर बार-बार आना पसंद करें। 

तो आप एक बार सोचे की आपको अपने ब्लॉग के (विवरण) में ऐसा क्या लिखना चाहिए, जो आपके लिए भी बेहतर हो, और आपके ब्लॉग पर आने वाले 'विजिटर' के लिए भी बेहतर हो।

(C) Blog language: इस विकल्प मे चूने की आप अपने ब्लॉग पर किस भाषा में पोस्ट, कंंटेंट लिखेेंगे।

और इस भाषा सेटिंग को आप पोस्ट, पेज Editor tool में बदल सकते हैं,जब आप किसी ओर भाषा में पोस्ट लिख रहे हो।

(D) Adult Content: यदि आप अपने ब्लॉग पर वयस्क सामग्री लिखते हैं जैसेः यौन संबंधित उत्पपीड़न, शारिरीक शोषण जैसी अन्य विषय पर पोस्ट लिखते हैं।

तो आप इस Adult Content विकल्प को on करें, और इस विकल्प को on करने के बाद ब्लॉगर आपके ब्लॉग को वयस्क सामग्री ब्लॉग की लिस्ट में जोड़ देगा। 

और यदि आप अपने ब्लॉग पर वयस्क सामग्री नहीं लिखते हैं, तो इसे बंद रहने दे।

(E) Google analytics property ID: यदि आपने अपने ब्लॉग को Google Analytics से लिंक किया है, तो आप google analytics account की property ID इस विकल्प मे डाले।

और यदि आपने अपने blog को Google Analytics account से Link नहीं किया है, तो आप इस विकल्प को छोड़ सकते हैं।

और जब आप अपने ब्लॉग को 'Google Analytics' account से लिंक कर दे, तो आप उसकी प्रॉपर्टी आईडी यहां पर डाल दीजिएगा।

अपने ब्लॉग को Google Analytics account से link करने के लिए हमारा यह लेख पढ़े

(F) Favicon: अपनी ब्लॉग वेबसाइट के logo को google Search नतीजों में दिखाने के लिए, उसे Favicon icon में कनवर्ट करके यहां अपलोड करें।

अपनी ब्लॉग वेबसाइट के Logo को Favicon icon में कन्वर्ट करने और उसे यहां 'favicon' विकल्प में अपलोड करने के लिए हमारा यह लेख पढ़े

(2) privacy - (निजता सेटिंग)

(A) Viable to search engine blog: यह विकल्प आपके ब्लॉग को गूगल सर्च में लाने का काम करता है।

यदि आप अपने ब्लॉग को गूगल सर्च में नहीं लाना चाहते हैं, तो इस विकल्प को बंद कर दे।

और यदि आप अपने ब्लॉग को गूगल सर्च रखना चाहते हैं, लोगों को इसे सर्च करने की अनुमति देना चाहते हैं, तो इसे ऑन रहने दे।

(3) publishing - (प्रकाशन)

(A) Blog Address: इस विकल्प में आपका ब्लॉग URL Address होता है, जिसे आपने अपना ब्लॉग 'क्रिएट' करते समय बनाया था।

और यहां से आप चाहे तो अपने ब्लॉग यूआरएल (Address) को चेंज कर सकते हैं। जैसे कि (उदाहरण: आपके ब्लॉग का 'यूआरएल, पता' (sikhoinall.Blockspot.com) इस तरह हैं, तो आप अपने ब्लॉग के (sikhoinall) इस नाम मैं कुछ बदलाव कर सकते हैं। 'या फिर' अपने ब्लॉग को एक अलग यूआरएल ऐड्रेस सकते हैं।

लेकिन ब्लॉग का यूआरएल ऐड्रेस वही चेेंज होगा जो एड्रेस ब्लॉग पर उपलब्ध होगा, यानी कि वह एड्रेस किसी और के ब्लॉग एड्रेस से मेच नहीं खाना चाहिए तभी वह आपके ब्लॉग पर लागू हो सकता हैं।

(B) Custom Domain: यहां से आप अपनी ब्लॉग वेबसाइट के लिए गूगल डोमेन से एक कस्टम डोमेन खरीद सकते हैं।

और यदि आपने किसी थर्ड पार्टी जैसे 'गोडैडी' साइट से अपने ब्लॉग के लिए एक कस्टम डोमेन खरीदा है। तो आप उसे 'Custom domain' विकल्प की मदद से अपने ब्लॉग पर लिंक कर सकते हैं।

'गोडैडी साइट' से अपने ब्लॉग के लिए कस्टम डोमेन खरीदने के लिए हमारा यह लेख पढ़ें। और गोडैडी साइट के कस्टम डोमेन को अपने ब्लॉग से लिंक करने के लिए हमारा यह लेख पढ़ें


(4) HTTPS - (एचटीटीपीएस)

(A) HTTPS Redirect: यह आपके ब्लॉग के लिए बहुत जरूरी होता हैं, और यह HTTPS रीडायरेक्ट आपकेे ब्लॉग के होम पेज पर सिक्योरिटी का काम करता हैं। जब आपके ब्लॉग पर कोई विजिटर आता हैं, तो उन्हें HTTPS रीडायरेक्ट सुरक्षित रूप से आपके ब्लॉग पर आने देता हैं।

और उन्हेंं 'हमलावरों' से बचाता हैं ताकि विजिटर आपके ब्लॉग को आसानी से देख पाए, और अपने आपको सुरक्षित महसूस कर सकें।

और गूगल खुद वेबसाइट की सेवा HTTP के बजाय  HTTPS पर देने की सलाह देता है, इसीलिए आप इस HTTPS Redirect विकल्प को बंद ना करें, इसे ऑन रहने दे।

और यदि आपके ब्लॉग पर HTTPS Redirect विकल्प बंद है तो आप इसे खुद ऑन कर लीजिए, ताकि आपके ब्लॉग पर विजिटर्स सुरक्षित रह सकें।

यह भी पढ़े " मोबाइल से यूट्यूब पर चैनल कैसे बनाएं और वीडियो अपलोड कैसे करें "
अपने Youtube vedio के लिऐ कस्टम थंबनेल बनाने का Best app कौनसा हैं। "
अपने youtube vedio पर photo, कस्टम थंबनेल कैसे लगाऐ, या चेंज करें। "
अपने यूट्यूब वीडियो पर अधिक दृश्य कैसे लाएं जानिए हिंदी में "

(5) Permissions - (अनुमतियाँ / सेटिंग)

(A) Blog Admins and authors: यहा पर आपका प्रोफ़ाइल नाम और गूगल ईमेल आईडी दिखाई देगी। वह गूगल अकाउंट ईमेल आईडी जिससे आपने ब्लॉगर पर अपना ब्लॉग बनाया है।

(B) Pending more authors: यहा पर आपको वह लंबित लेखक दिखाई देंगे, जिनको आपने अपने ब्लॉग पर पोस्ट लिखने के लिए आमंत्रित किया है, और उन्हों ने अभी तक आपके आमंत्रण को स्वीकार नहीं किया है।

(C) Invite More Authors: इस विकल्प से आप अपने ब्लॉगर ब्लॉग पर पोस्ट लिखने के लिए  और अधिक लेखक को आमंत्रित कर सकते हैं।

जैसेः आप अपने भाई, बहन, दोस्तों या अन्य जिनको आप जानते हैं, उनको ब्लॉग पर पोस्ट लिखने के लिए आमंत्रित कर सकते हैं।

और उन्हें आमंत्रित करने के लिए आपको उनकी ईमेल आइडी की जरूरत है।

जब आप उन्हें पोस्ट लिखने के लिए आमंत्रित करेंगे, तो उनको आपके ब्लॉग की और से एक ईमेल मिलेगा। उस ईमेल में उन्हें  आमंत्रण स्वीकार करें  का लिंक मिलेगा, जिस पर क्लिक करकेे उनको ब्लॉगर के लिए अपने गूगल खाते में प्रवेश करना होगा इसके बाद वह आपके ब्लॉग पर लेखक के रूप में जुुुुड़ जाएंगे।

ध्यान देंः आपके द्वारा आमंत्रित किये गये लेखक यदि आपका आमंत्रण स्वीकार करते हैं, तो वह केवल ब्लॉग पर पोस्ट लिख सकते हैं, और ब्लॉग आंकड़े देख सकते हैं, या ब्लॉग होम पेज और आपके द्वारा लिखी गई पोस्ट देख सकते हैं।

इसके अलावा वह ब्लॉग की जरूरी सेटिंग्स में बदलाव नहीं कर सकते, ओर आपके द्वारा लिखी पोस्ट को भी डिलीट या उसमें बदलाव नहीं कर सकते हैं। इसलिए आप निश्चिंत रह सकते हैं, कि वह आपके ब्लॉग में कोई गड़बड़ी नहीं करेंगे।

और यदि आप अपने किसी खास लेखक को ब्लॉग की सभी access देना चाहते हैं। तो अपने ब्लॉगर सेटिंग्स में Blog Admins and authors पर जाए, और इस पर क्लीक करें।

इसके बाद पॉप-अप विंडो में आपकी Admin profile के नीचे आपके ब्लॉग के सभी लेखकों की प्रोफ़ाइल्स दिखाई देंगी। जिन्होंने आपके ब्लॉग पर पोस्ट लिखने के लिए आमंत्रण स्वीकार कर लिया था।

उन लेखक में से किसी लेखक को ब्लॉग Admin की पहुंच देने के लिए उसकी प्रोफ़ाइल के आगे [Author] पर क्लीक करें और Admin विकल्प सिलेक्ट करें। और फिर वह आपकी तरह आपके ब्लॉग का 'Admin' बन जाएगा।

किसी Author को अपने ब्लॉग की Admin access देने के बाद वह आपके ब्लॉग पर बराबर का हकदार बन जाता है। फिर वह सब कुछ कर सकता हैं, जो आप अपने ब्लॉग पर कर सकते है।

 जैसेः आपकी पोस्ट में बदलाव करना या उन्हें हमेशा के लिए मिटाना, ब्लॉगर की सभी Settings तक पहुंचना उनमें बदलाव करना या मिटाना,  गूगल सर्च कंसोल तक पहुंचना उसमें अपना मालिकाना हक सत्यापित करना और सर्च परफॉर्मेंस रिपोर्ट देखना, त्रुटि संदेश देखना ओर ठीक करना, यानी उन सभी सेटिंग्स तक पहुंच प्राप्त करना जिन सेटिंग तक केवल आप पहुंच सकते हैं।

और यहा तक की वह आपके ही ब्लॉग से आपकी access रोक सकता है या हमेशा के लिए आपको निकाल भी सकता है।

सलाह: कि आप अपने ब्लॉग के किसी भी अन्य लेखक को Admin की पहुंच दें, यही बेहतर है।

(D) Readers access: यहा आपके ब्लॉग के लिए 'public' विकल्प डिफ़ॉल्ट सेट किया गया है। ताकि आपके ब्लॉग पोस्ट को कोई भी उपयोगकर्ता पढ़ सकें, इसलिए इसमें बदलाव करें।

यदि आप इसमें बदलाव करते हैं, और public की जगह private to Authors या custom readers  विकल्प चुनते हैं। तो आपके ब्लॉग पोस्ट केवल यह लोग ही देख सकते हैं।

• Private to readers:  यदि आप इस विकल्प को चुनते हैं, तो आपके ब्लॉग की पोस्ट को केवल आप या आपके ब्लॉग पर पोस्ट लिखने वाले Author ही देख सकते हैं।

• Custom readers: यदि आप इसे चुनते हैं, तो आपकी ब्लॉग पोस्ट को केवल वह उपयोगकर्ता देख सकते हैं। जिन्हें आप पोस्ट पढ़ने के लिए आमंत्रित करते हैं, और वह स्वीकार करते हैं।

और यदि आप 'Custom readers' विकल्प सिलेक्ट करते हैं, तो आपके लिए तीन विकल्प और खुल जाते हैं इनके बारे में नीचे जाने!

(E) Custom readers: यहां पर आपको वह पाठक दिखाई देंगे, जिन्होंने आपके ब्लॉग पर पोस्ट पढ़ने के लिए आमंत्रण को स्वीकार कर लिया है।

(F) Pending more reader invites:  यहां पर आपको वह पाठक दिखाई देंगे, जिनको आपने ब्लॉग पोस्ट पढ़ने के लिए आमंत्रित किया है। लेकिन उन्होंने अभी तक आपके आमंत्रण  को स्वीकार नहीं किया है।

(G) invite more authors: इस विकल्प से आप अपने ब्लॉग पर पोस्ट पढ़ने के लिए Custom Readers को आमंत्रित करेंगे।

लेकिन आमंत्रित करने के लिए आपके पास उनका ई-मेल होना जरूरी है, और उसी इमेल से आप इस विकल्प के जरिए, अपने ब्लॉग पर पोस्ट पढ़ने के लिए Custom Readers को आमंत्रित करेंगे।

(6) posts - (पोस्ट / सेटिंग)

(A) max posts shown on main page: अपने ब्लॉग के मुख्य पेज पर अधिक पोस्ट दिखाएँ। इस विकल्प के जरिए आप अपने ब्लॉग के 'मुख्य पृष्ठ' यानी (होम पेज) पर पोस्ट कम या अधिक दिखा सकते हैं, यहा दी गई संख्या में बदलाव करके आप यह कर सकते हैं।

(B) post template (optional):  इस विकल्प की मदद से आप अपनी हर New पोस्ट के लिए एक पैराग्राफ जोड़ सकते हैं।

यहां पर जो आप पैराग्राफ लिखेंगे, वह आपकी हर नई पोस्ट के लिए उपलब्ध होगा। लेकिन यह पुरानी ड्राफ्ट या प्रकाशित पोस्ट के लिए उपलब्ध नहीं होता हैं।

मैंने इस 'post template (optional)' में अपने विजटर्स के लिए एक request पैराग्राफ़ लिखा है, जो कुछ एसा दिखाई देता हैं।

[तो दोस्तों हमें उम्मीद है, कि आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई होगी। और यदि पोस्ट पसंद आई है, तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करें ताकि आपके दोस्तों को भी इस पोस्ट के बारे में पता चल सके। और नीचे कमेंट करें, कि आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी।

यदि आपका कोई प्रश्न है, तो नीचे 👇 Comment बॉक्स में हमें बताएं।]

और 'post template (optional)' में पैराग्राफ़ लिखने और उसे अलग-अलग डिजाइन में बदलने के लिए, इसमें सोशल मीडिया लिंक या अन्य कोई भी लिंक जोड़ने के लिए हमारे इस लेख को पढ़े।

(A) image lightbox: यह विकल्प आपके ब्लॉग पोस्ट के अंदर जो इमेज होती है, उस पर जब विजिटर क्लिक करता है तो वह इमेज कैसे दिखाई दे।

यदि आप इस विकल्प को ऑन करते हैं, तो उपयोगकर्ता जब आपकी पोस्ट में किसी एक इमेज पर क्लिक करेंगे। तो उस एक इमेज पर क्लिक करने के बाद आप की पोस्ट पर जितनी भी इमेज होगी, वह भी इमेज पर क्लिक की गई इमेज के नीचे दिखाई देगी। जिससे उपयोगकर्ताओं को आपकी पोस्ट में हर एक इमेज पर क्लिक करने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

यदि आप इसे बंद करते हैं, तो उपयोगकर्ता को आपकी पोस्ट पर सभी इमेज को अच्छे से देखने के लिए अलग-अलग से क्लिक करना होगा।

(7) Comments - (टिप्पणियां / सेटिंग)

(A) Comment location:  इस विकल्प से आपको यह तय करना है, कि आप अपने उपयोगकर्ताओं को पोस्ट पर टिप्पणी करने का स्थान कहां पर देना चाहते हैं।

• Embedded: यह आपके उपयोगकर्ताओं को आपकी पोस्ट सामाग्री पर ही टिप्पणी और जवाब करने की अनुमति देता है।

• (Full page) and (pop-up window): यदि आप इन दोनों विकल्प में से किसी एक को चुनते हैं, तो यह उपयोगकर्ताओं को टिप्पणी करने के लिए एक नए पृष्ठ पर ले जाता है।

• Hide: यदि आप इस विकल्प को चुनते हैं, तो आपके ब्लॉग कि सभी पोस्ट पर टिप्पणी करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। यानी टिप्पणी विकल्प को आपकी पोस्टों से छुपा दिया जाएगा। और आपकी जिन पोस्टों में टिप्पणी हुई है, उन्हें भी छुपा दिया जाएगा।

सलाह: कि यदि आप अपने उपयोगकर्ताओं को अपनी पोस्टों पर टिप्पणी करने देना चाहते हैं, तो हम आपको Embedded विकल्प चुनने की सलाह देते हैं।

(B) Who can comment?: इस विकल्प से आप प्रबंधित कर सकते हैं, की आपकी पोस्ट पर कौन उपयोगकर्ता टिप्पणी कर सकते हैं।

• Anyone (including Anonymous):  यदि आप इस विकल्प को चुनते हैं, तो आपकी ब्लॉग पोस्टों पर कोई भी उपयोगकर्ता कमेंट कर सकता है।

• User with google account: यदि आप यह विकल्प चुनते हैं, तो आपके ब्लॉग पोस्ट पर गूगल उपयोगकर्ता ही कमेंट कर सकते हैं।

• Only members of this blog: यदि आप इस विकल्प को चुनते हैं, तो केवल आपके ब्लॉग Subscriber ही आपकी ब्लॉग पोस्टों पर कमेंट कर सकते हैं।

सलाहः कि आप 'User with google account' विकल्प चुने यह सही रहेगा।

(C) Comment moderation: प्रकाशित होने से पहले टिप्पणियों की समीक्षा करें।

Always: यदि आप इस विकल्प को चुनते हैं, तो जब भी कोई उपयोगकर्ता आपके ब्लॉग पोस्ट पर Comment करेगा, तो वह Comment डायरेक्ट आपकी ब्लॉग पोस्ट पर प्रकाशित नहीं होगा।

आप खुद उसे कमेंट ऑप्शन में जाकर उसकी समीक्षा कर सकते हैं, और उसे प्रकाशित कर सकते हैं।

Something: और आप यदि इस विकल्प को चुनते हैं, तो आपके ब्लॉग पर होने वाले कुछ-कुछ कमेंट को मॉडरेशन के लिए रखा जाएगा। जिनकी आप समीक्षा करकेे प्रकाशित कर सकते हैं। 

never: इस विकल्प को चुनने के बाद आपको कमेंट की समीक्षा करने की जरूरत नहीं है। जब उपयोगकर्ता आपकी ब्लॉग पोस्ट पर कमेंट करेंगे, तो वह डायरेक्ट प्रकाशित हो जाएगी।

(D) For posts older than: यदि आप कमेंट मॉडरेशन के लिए Always विकल्प को चुनते हैं, तो आपके लिए यह विकल्प ओपन हो जाता है। इसमें आप चुन सकते हैं, कि कितने दिन पुरानी पोस्टों के लिए आप कमेंट मॉडरेशन चालू करना चाहते हैं।

(E) Email moderation requests to: यदि आप कमेंट मॉडरेशन के लिए 'Always' और 'Something' दोनों में से कोई एक विकल्प चुनते हैं, तो आपके लिए यह विकल्प भी ओपन हो जाता है। इसमें आप अपनी ईमेल आईडी डाल सकते हैं, और जब आपके ब्लॉग पर कोई उपयोगकर्ता कमेंट करेगा तो आपको एक ईमेल बॉक्स पर अलर्ट प्राप्त होगा।

सलाहः मैं आपको कमेंट मॉडरेशन के लिए never सेलेक्ट करने की सलाह देता हूं, बाकी आप अपने विचार से Always या Something विकल्प भी चुन सकते हैं।

(F) reader comment captcha:  यह विकल्प जब उपयोगकर्ता आपकी पोस्ट पर कमेंट करता है, तो उनके लिए एक कैप्चा उत्पन्न करता है। जिसे उन्हें चेक करना होता है, इसके बाद ही वह कमेंट प्रकाशित कर सकता है।

सलाहः मैं इसे ऑन करने की सलाह देता हूं।

(G) Comment from massage: आप यहां पर एक मैसेज लिख सकते हैं, जिससे कि आपकी साइट पर कमेंट करने वाले लोगों का हौसला बढ़ सके और यह संदेश आपकी ब्लॉग पोस्ट कमेेंट बॉक्स के पास में दिखाई देता हैं।

जैसाः कि मैंने अपनी ब्लॉग साइट Comment उपयोगकर्ता के लिए कुछ इस तरह का संदेश दे रखा हैं।

[क्या आपने इस पोस्ट पर अपना Comment किया है, यदि (नहीं) तो अभी करें।

आपके विचार सार्वजनिक हैं

धन्यवाद!]

और इस संदेश को आप हमारी इस 'पोस्ट' के नीचे कमेंट बॉक्स के पास मैं देख सकते हैं, और यदि यह मैसेज आपको हमारे कमेंट बॉक्स के पास दिखाई नहीं देता है। तो आप एक कमेंट प्रकाशित करें, और फिर आपको यह मैसेज दिखाई देने लगेगा।

तो इस तरह आप भी अपने ब्लॉग पर अपने हिसाब से एक (टिप्पणी फॉर्म संदेश) लिख सकते हैं।

(8) Email - (ईमेल / सेटिंग)

(A) Post using email: इस विकल्प में आपको अपने ब्लॉग पर ईमेल के द्वारा 'पोस्ट' करने के लिए एक ईमेल बनानी हैं। जिसै 'हम' (mail2blogger) के नाम से जानेंगे, और इस ईमेल के द्वारा आप किसी भी व्यक्ति से अपने ब्लॉग पर पोस्ट करवा सकते हैं। 

तो चलिए जानते हैं कि इस ईमेल के बारे में जिसे हम (mail2blogger) कहते हैं, इसको हम कैसे बनाएं।

तो दोस्तों mail2blogger 'ईमेल' बनाने के लिए Post using email पर क्लिक करें।

अब पॉपअप विंडो में नीचे की ओर आपकी जीमेल कुछ इस तरह dn22456654.(Secretwords)@blogger.Com लिखा होगा।

तो आपको यहां Secretwords की जगह कुछ अंक या शब्द डालने हैं, और एक mail2blogger ईमेल बनानी है।

और इसी ईमेल पर आप या उपयोगकर्ता ईमेल के जरिए पोस्ट लिखकर ब्लॉग पर भेज सकते हैं। और वह पोस्ट आपके ब्लॉग पर अपलोड हो जाएगी।

और फिर चुने, की उपयोगकर्ता जिसे आप ईमेल के जरिए पोस्ट करने के लिए अपना Mail2blogger ईमेल देते हैं। और जब ई-मेल के जरिए आपके ब्लॉग पर पोस्ट करता है, तो वह पोस्ट तुरंत प्रकाशित होनी चाहिए या ड्राफ्ट में सेव होनी चाहिए। ताकि आप उसकी समीक्षा करके उसे प्रकाशित कर सके अपने हिसाब से।

• publish email immediately: यदि आप इस विकल्प को चुनते हैं, तो ईमेल के द्वारा की गई आपके ब्लॉग पर पोस्ट तुरंत प्रकाशित हो जाएगी।

• save emails as draft post: यदि आप इस विकल्प को चुनते हैं, तो ईमेल के द्वारा पोस्ट तुरंत प्रकाशित नहीं होगी।  उसकी आप खुद समीक्षा कर सकते हैं, उसकी SEO सेटिंग, Permalink बनाना, उसमें Keyword जोड़ना अन्य सेटिंग करके आप अपने हिसाब से बाद में उसे प्रकाशित कर सकते हैं।

• Disabled: यदि आप इस विकल्प को चुनते हैं, तो आपका यह mail2blogger विकल्प बंद हो जाएगा, यानी यह काम नहीं करेगा।

सलाहः यदि आप अपने ब्लॉग पर ईमेल द्वारा पोस्ट करने के लिए, (Mail2blogger) ईमेल बनाते हैं। तो हम आपको save emails as draft post विकल्प चुनने की सलाह देते हैं।

'ताकि' जब आप किसी और व्यक्ति से (mail2blogger) ईमेल के जरिए अपने ब्लॉग पर पोस्ट करवाते हैं, तो वह पोस्ट आपके ब्लॉग पर तब तक (प्रकाशित) नहीं होगी, जब तक आप खुद उसे प्रकाशित नहीं कर देते हैं। और यह सही भी हैं।

इस विकल्प का उदाहरण नीचे Screenshot में देखें।

Blogger/ब्लोग वेबसाइट की सेटिंग करना सिखे, Blogger website ki setting Set kaise kare, blog me best seo setting kare, website, seo, Blogger/blog Ki 16 settings set up

(B) Comment notification email: आपकी ब्लॉग पोस्ट पर जो कमेंट होता है, उसका नोटिफिकेशन पाने के लिए यहां आप अपना एक ईमेल दर्ज कर सकते है। आप अपना कोई भी ईमेल दर्ज कर सकते हैं, जिस पर आप कमेंट नोटिफिकेशन अलर्ट प्राप्त करना चाहते हैं।

(C) Pending Comment notification emails: यहां पर आपको वह ईमेल पते दिखाई देंगे, जिसको आपने कमेंट नोटिफिकेशन पाने के लिए रिक्वेस्ट भेजा है, और उन्होंने अभी तक स्वीकार नहीं किया है।

(D) invite more people to Comment notification emails:  यहां से आप कमेंट नोटिफिकेशन पाने के लिए उपयोगकर्ताओं को रिक्वेस्ट भेज सकते हैं। और जब वह आपका रिक्वेस्ट स्वीकार करेंगे, तो उनके ईमेल 'Comment notification email' विकल्प में दिखाई देने लगेंगे।

(E) Email post to: यहां पर आपको उन उपयोगकर्ताओं के ईमेल पते दिखाई देंगे, जिनको आपने आपके ब्लॉग पर नई पोस्ट प्रकाशित होने पर ईमेल अलर्ट प्राप्त करने के लिए रिक्वेस्ट भेजा है। और उन्होंने आपका रिक्वेस्ट स्वीकार कर लिया है।

(F) Pending post notification emails: यहां पर आपको वह लंबित 'इमेल' दिखाई देंगे, जिन उपयोगकर्ताओं को आपने अपनी नई पोस्ट के ईमेल अलर्ट प्राप्त करने के लिए रिक्वेस्ट भेजा है, लेकिन उन्होंने अभी तक स्वीकार नहीं किया है।

(G) invite more people to post notifications: यहां से आप अपनी नई पोस्ट के ईमेल भेजने के लिए उपयोगकर्ताओं के ईमेल डालकर उन्हें रिक्वेस्ट भेज सकते हैं। आप एक साथ 10 ईमेल पते कोमा , से अलग करके डाल सकते हैं, और इससे अधिक आप नई पोस्टों के इमेल भेजने के लिए रिक्वेस्ट नहीं कर सकते है।

और जब उपयोगकर्ता आपके द्वार आपकी गई नई पोस्ट के ईमेल प्राप्त करने के लिए रिक्वेस्ट स्वीकार करते हैं, तो जब आपके ब्लॉग पर नई पोस्ट प्रकाशित होगी, तो उनको आपके नए पोस्ट के ईमेल प्राप्त होंगे।

(9) Formatting (फा़ॅर्मैट / सेटिंग)

(A) time zone: इस विकल्प में आपको अपने देश का समय क्षेत्र चुनना हैं। जैसे कि अगर आप भारत में रहते हैं तो भारत का समय क्षेत्र चुनना हैं, 

जैसे उदाहरण: (GMT +05:30) India standard time - kolkata यह भारत का समय क्षेत्र हैं। वैसे ही हर देश का अलग-अलग समय क्षेत्र होता हैं, आप जिस देश में रहते हैं, उस देश का समय क्षेत्र उसी देश के हिसाब से चुने।

(B) Date header Format: इस तरह से दिनांक आपकी ब्लॉग पोस्ट के ऊपर दिखाई देगी।

(C) timestamp format: यहां पर जो आपको डेट दिखाई देती है, यह गूगल सर्च में भी उपयोगकर्ताओं को दिखाई देती है, और यही तारीख आपके पोस्ट आर्टिकल में पोस्ट प्रकाशित तारीख के रूप में दिखाई देती है।

(D) Comment timestamp format: यहां पर जो आपको तारिख दिखाई देती है, यही तारीख आपके ब्लॉग पोस्ट पर जब कमेंट होता है, तो वहां पर उसका डेट टाइम इस तरह से दिखाई देता है। आप चाहे तो इसे अपने हिसाब से कस्टमाइज कर सकते हैं।

(10) Meta tag (मेटा टैग / सेटिंग)

(A) Enable search engine: Meta tag डिस्क्रिप्शन को गूगल सर्च में लाने के लिए इस विकल्प को ऑन करें, और फिर नीचे दिए गए सर्च डिस्क्रिप्शन विकल्प में अपने ब्लॉग के लिए सर्च डिस्क्रिप्शन कीवर्ड लिखें।

(B) Search Description: इस विकल्प में आपको अपने ब्लॉग से रिलेटेड कुछ कीवर्ड बनाने हैं। जो आपके ब्लॉग को समझने में गूगल कि मदद करेंगे, और आपके ब्लॉग को गूगल पर रैंक करने में भी मदद करेंगे।

यदि आप यहां पर बहुत ही यूनिक डिस्क्रिप्शन या बहुत अधिक सर्च होने वाले कीवर्ड का उपयोग करते हैं, जो आपके ब्लॉग से रिलेटेड है। तो हो सकता है, कि आपका ब्लॉग गूगल पर जल्दी रैंक करने लगे।

और इस विकल्प में कीवर्ड सारांश लिखते समय हर कीवर्ड के आगे कॉमा (,) का उपयोग करके, हर कीवर्ड को अलग करें, जैसा कि यहां नीचे उदाहरण में 'दर्शाया गया' हैं। 

उदाहरण: 'business, body health, technology' ऐसे ही आप भी अपनी साइट के लिए दिलचस्प कीवर्ड सारांश लिखें, और अपनी ब्लॉग वेबसाइट के लिए कीवर्ड बनाएं।

(11) Error & redirects (गड़बडी़या और रीडायरेक्ट / सेटिंग)

(A) Custom 404: इस विकल्प में आप अपने ब्लॉग पर डिलीट की गई पोस्ट के लिए एक 'कस्टम 404' संदेश लिखें

यदि आप अपने ब्लॉग पर कस्टम टेंप्लेट का उपयोग करते हैं, तो देखें की आपके ब्लॉग के कस्टम टेंप्लेट में कस्टम तरीके से 404 संदेश ऐड किया गया है, या नहीं! और यदि 404 संदेश ऐड किया गया है, तो आपको यहां पर 404 कस्टम संदेश जोड़ने की जरूरत नहीं है।

(B) Custom redirect: इस विकल्प कि मदद से आप अपनी किसी पोस्ट को किसी और पोस्ट पर डायरेक्ट कर सकते हैं।

यदि आपने अपने ब्लॉग पर किसी पोस्ट के कस्टम यूआरएल परमालिंक को बदल दिया है, और उसकी जगह नया यूआरएल बनाया है या किसी पोस्ट को डिलीट करके उसकी जगह सेम टू सेम आपने कोई और पोस्ट लिखा है। तो आप अपने उस पुरानी पोस्ट के लिंक को नई पोस्ट पर या अपडेट किए गए नए यूआरएल पर रीडायरेक्ट कर सकते हैं।

'Custom 404' और 'Custom redirect' दोनों विकल्प के बारे में विस्तार से जानने के लिए हमारा यह लेख पढ़ें


(12) Crawler and indexing (क्रॉलर और इंडेक्स की सेटिंग)

ध्यान देंः यहां पर जो सेटिंग्स दी गई है, इनकी मदद से आप अपने ब्लॉग को गूगल सर्च में लाने से रोक भी सकते हैं या उसे इंडेक्स करने के लिए आप 'गूगल सर्च रोबोट्स' को अनुमति भी दे सकते हैं। इसीलिए इसे ध्यान से सेट अप करें।

(A) Enable custom robots.txt: अपने ब्लॉगर ब्लॉग के लिए Custom robots.txt इनेबल करने के लिए इस विकल्प को ऑन करें।

• custom robots.txt: इस ऑप्शन में आपको अपनी साइट की एक (robots.txt) फाइल डालनी हैं। वैसे यह robots.txt फाइल आपकी साइट के लिए ज्यादा जरूरी नहीं होती हैं आप चाहे तो इस (कस्टम robots.txt) के ऑप्शन को छोड़ भी सकते हैं।

और अगर आप (robots.txt) फाइल को इस सेटिंग में डालना चाहते हैं। तो यह 'फाइल' आपकी ब्लॉग साइट के होम पेज पर आपको मिल जाएगी, और इस फाइल को देखने के लिए अपना ब्लॉग देखे (view blog) पर क्लिक करें, और आपकी साइट का होम पेज ओपन हो जाएगा। 

और फिर होम पेज में आपको ऊपर की ओर खोज बॉक्स पर क्लिक करना हैं, और उस सर्च बॉक्स से आपको आपके ब्लॉग का यूआरएल कॉपी करना है। और उसे वापस सर्च बॉक्स में पेस्ट करना है, और फिर उस यूआरएल में आपको इस com/ के आगे robots.txt लिखना हैं।

उदाहरणः https://yoursitename.Blockspot.Com/robots.txt?m=1 इस तरह से आप अपने ब्लॉग यूआरएल में robots.txt लिखें, और फिर सर्च करें, और आगे बढ़े।

और फिर आपके सामने आपके ब्लॉग की robots.txt फाइल ओपन हो जाएगी, उस फाइल को कॉपी करें, और उसे अपने ब्लॉग सेटिंग में आकर Custom robots.txt विकल्प में पेस्ट कर दें, और फिर सेटिंग save कर ले।

(B) Enable custom robots header tags: अपने ब्लॉग पर 'कस्टम रोबोट्स हेडर टैग्स' सेटिंग्स चलाने के लिए इस विकल्प को ऑन करें।

• Home page tags: अपने ब्लॉग होम पेज और सभी पोस्ट को गूगल में इंडेक्स करने के लिए यहां दिए गए विकल्प मे से All और noodp विकल्प select करें। और फिर Save करें।

• Archive and search page tags: आपको अपने ब्लॉग से सर्च पेजेस् अपने ब्लॉग पोस्ट के लेबल को नोइंडेक्स रखना चाहिए।

क्योंकि सभी वेबसाइट ब्लॉग पर लेबल और पेजस् स्पैम होते हैं, इसलिए हमें इन्हें नोइंडेक्स करना चाहिए।

अपने ब्लॉग से label, archive और अन्य सपेम search page लिंक को नोइंडेक्स करने के लिए यहां दिए गए विकल्प में से Noindex और Noodp विकल्प सेलेक्ट करें।

• Post and page tags: आप अपने ब्लॉग पर जो भी पोस्ट लिखते हैं। उनके लिए एक डिफॉल्ट सेटिंग सेट करें कि आप उन्हें गूगल सर्च के लिए रखना चाहते हैं, या नोइंडेक्स के लिए रखना चाहते हैं।

यहां पर जो आप सेटिंग करेंगे, वह आपके पोस्ट एडिटर के अंदर भी Show होंगी। जिसे आप अपनी किसी पोस्ट को नोइंडेक्स करने के लिए वहां से भी इसे सेट-अप कर सकते हैं।

हालांकि हम चाहते हैं, कि आप अपनी सभी पोस्टों को गूगल सर्च में लाएं, ताकि आपके ब्लॉग पर विजिटर्स आ सके। तो इसके लिए हमें अपनी सभी पोस्टों के लिए डिफॉल्ट इंडेक्स सेटिंग करना चाहिए।

 तो यहां दिए गए विकल्प में आप All और Noodp विकल्प को सेलेक्ट कर ले। यह सेटिंग आपकी सभी पोस्टों के लिए गूगल सर्च में इंडेक्स सेटिंग हो जाएगी। जिससे आपकी पोस्ट गूगल पर दिखाई देगी।

(C) Google search console: दोस्तों इस विकल्प से आप अपने ब्लॉग को गूगल सर्च कंसोल में जोड़ सकते हैं। और आपके ब्लॉग की गूगल पर परफॉर्मेंस रिपोर्ट आपके पेज कैसे रैंक करते हैं, अपनी नई पोस्टों को गूगल पर सबमिट करना साइटमैप सबमिट करना।

और आपकी पोस्टों मैं कोई समस्या है, त्रुटि है या अन्य समस्याओं के बारे में आप गूगल सर्च कंसोल में जान सकते हैं। और उन्हें ठीक करके वापस गूगल पर सबमित भी कर सकते हैं ताकि वह पोस्ट गूगल पर अच्छी से अच्छी रैंक प्राप्त कर सकें।

इसके लिए आपको गूगल सर्च कंसोल में अपने ब्लॉग यूआरएल को सबमिट करना होगा, और यदि आपका ब्लॉग गूगल सर्च में नहीं आता है, तो गूगल सर्च कंसोल में यूआरएल सबमिट करने के बाद बहुत जल्द आपका ब्लॉग गूगल सर्च में आने लगेगा।

गूगल सर्च कंसोल के बारे में अधिक जानकारी के लिए और अपने ब्लॉग वेबसाइट प्रॉपर्टी गूगल सर्च कंसोल में जोड़ने के लिए हमारा यह लेख पढ़ें

(13) Monetization (कमाई करना / सेटिंग)

(A) Enable Custom ads.txt: अपने ब्लॉग पर Custom Ads.txt फाइल चालू करने के लिए इस विकल्प को ऑन करें।

• Custom ads.txt: इस विकल्प में आपको अपने गूगल ऐडसेंस कि Ads.txt फाइल जोड़नी है, दोस्तों जब आप अपने ब्लॉग को गूगल ऐडसेंस से कनेक्ट करेंगे। और जब आपको गूगल ऐडसेंस का अप्रूवल सक्सेसफुली मिल जाता है।

और जब आप गूगल ऐडसेंस में लॉगिन करते हैं, तो आपको एक ads.txt फाइल जोड़ने के लिए एक मैसेज मिलता है। जिस पर क्लिक करके आप Ads.txt फाइल को डाउनलोड कर सकते हैं, और उसे कॉपी करके यहां ब्लॉगर की सेटिंग मैं Custom ads.txt विकल्प में पेस्ट कर दें, और इसे सेव कर ले।

यदि आपने अपने ब्लॉग को अभी तक गूगल ऐडसेंस से कनेक्ट नहीं किया है, तो इस विकल्प को अभी के लिए नजरअंदाज करें और इसे छोड़ दें।

(14) Manage blog (ब्लॉग प्रबंधित करें / सेटिंग)

(A) Import content: आपने अपने ब्लॉग पर जितनी भी पोस्ट लिखी है, उन सभी को अपने डिवाइस में डाउनलोड करने के लिए उनकी XML फाइल अपने डिवाइस में सेव करने के लिए इस विकल्प पर क्लिक करके आप डाउनलोड कर सकते हैं।

(B) Back up content: और यदि आपके पास पहले कोई ब्लॉग था या ब्लॉग है, जिनकी पोस्टों को आप अपने इस ब्लॉग पर अपलोड करना चाहते हैं। तो आप उसकी XML फाइल वहां से डाउनलोड करके इस 'Back up content' विकल्प के जरिए उसे वापस इस ब्लॉग पर अपलोड कर सकते हैं।

(C) Videos from your blog: आपने अपने ब्लॉग पर जितने भी वीडियो अपलोड किए हैं, उनको अपने डिवाइस में डाउनलोड करने के लिए या हटाने के लिए इस विकल्प का उपयोग कर सकते हैं।

(D) Remove your blog: आप अपने ब्लॉग को हमेशा के लिए या अस्थाई रूप से हटाने के लिए इस विकल्प का उपयोग कर सकते हैं। इस विकल्प की मदद से आप अपने ब्लॉग को अस्थाई रूप से या हमेशा के लिए मिटा सकते है।

(15) Site feed (साइट फीड / सेटिंग)

(A) Allow blog feed: इसे हम आपको Full पर सेट करने की सलाह देते हैं, क्योंकि यह आपकी ब्लॉग post, comment और per-post comment फीड Share के लिए है, इसलिए इसे फुल पर सेट करें।

यदि आप इस विकल्प में Full को सेलेक्ट ना करके इसके बाजाय अन्य विकल्प सिलेक्ट करते हैं, तो आपके ब्लॉग फीड  यहा दिए गए निम्नानुसार बदलाव हो सकते हैं।

• Full: यह विकल्प आपके ब्लॉग की संपूर्ण जानकारी वितरित करता है। जैसे आपके सब्सक्राइबर के लिए जब आप अपने ब्लॉग पर नई पोस्ट लिखते है तो आपके ब्लॉग की पूरी पोस्ट को ईमेल पर उपयोगकर्ताओं को भेजा जाता है, जिन्होंनेे आपके ब्लॉग की सदस्यता ली है।

• Until jump break: यदि आप इस विकल्प को चुनते हैं, तो ब्लॉग आपके नए पोस्ट की सामग्री उपयोगकर्ताओं के साथ ईमेल बॉक्स पर आपके जंप ब्रेक लाइन तक ही शेयर करता है। उससे नीचे की जानकारी उपयोगकर्ता आपके ब्लॉग पोस्ट पर आकर देख पाएंगे।

• Sort: यदि आप इस विकल्प को चुनते हैं, तो आपके सब्सक्राइबर को आपकी नई पोस्ट की सामग्री का लगभग 400 वर्णन तक ही हिस्सा शेयर किया जाएगा।

• None: यदि आप इस विकल्प को चुनते हैं, तो आपका ब्लॉग Site Feed बंद हो जाएगा। और आपके सब्सक्राइबर को आपकी नई पोस्टों के अपडेट नहीं मिलेंगे।

• Custom: और यदि आप इस विकल्प को चुनते हैं, तो आप अपने ब्लॉग की Feed को अपने अनुसार कस्टमाइज कर सकते हैं। इस विकल्प को चुनने के बाद आपके लिए नीचे दिए गए बिंदु लगाए गए तीन विकल्प और खुल जाते हैं।

• Blog post feed: यह विकल्प आपकी ब्लॉग पोस्ट की सामग्री शेयर करने के लिए काम आता इसमें आप चुन सकते हैं, कि आप अपने सब्सक्राइबर अपनी नई पोस्ट की कितनी सामग्री शेयर करना चाहते हैं। यहां पर भी आपके लिए ऊपर दिए गए चार विकल्प ही होते हैं, उनमें से आप को चुनना होता है।

• Blog comment feed: यह विकल्प आपके साथ आपके ब्लॉग पर जो कमेंट होते हैं, और उनका ईमेल यदि आपको मिलता है। तो उपयोगकर्ता ने जो आपके ब्लॉग पर कमेंट किया था, उसका हिस्सा ईमेल पर शेयर करने का काम करता है।

या जब आप अपने उपयोगकर्ता को उनके कमेंट का जवाब देते हैं, तो वह हिस्सा उन्हें ईमेल पर शेयर किया जाता है। यह इस तरह से काम करता है।

Full:  यह आपके ब्लॉग कमेंट की पूरी सामग्री को ई-मेल पर शेयर करता है।

Sort: यह आपके ब्लॉग कमेंट की कम सामग्री को ई-मेल पर शेयर करता हैं। लगभग 400 वर्णन तक

None: यह विकल्प कमेंट सामग्री को ईमेल पर शेयर करने की अनुमति नहीं देता है।

• Per-post comment feeds: इस विकल्प मे चूने की आप अपने ब्लॉग पोस्ट पर टिप्पणी की कितनी सामग्री शेयर करना चाहते हैं।

(B) Post feed redirect URL: यदि आपने अपने ब्लॉग फीड को किसी तीसरे पक्ष की फीड से बर्न कर दिया है, तो अपना फीड बर्नर URL यहा पर डालें।

(C) Post feed footer: यह आपकी पोस्ट के नीचे दिखाई देता है। यदि आप विज्ञापनों या अन्य तृतीय पक्ष फीड परिवर्धन का उपयोग करते हैं, तो आप यहां पर उस कोड को डाल सकते हैं। लेकिन: आपको 'Allow blog feed' को भी Full पर सेट करना होगा।

(D) Title and enclosure links: यह विकल्प आपके ब्लॉग पोस्ट ऐडिटर में शीर्षक लिंक और संलग्नक लिंक विकल्प जोड़ता हैं।

शीर्षक लिंक: यह विकल्प आपको आपके पोस्ट शीर्षक के लिए एक कस्टम URL सेट करने देता है।

संलग्नक लिंकः RSS और ऐटम जैसे feeds में खेलने योग्य आपके पोस्ट में पॉडकास्ट, एमपी 3 और विभिन्न सामाग्री बनाने के लिए संलग्नक लिंक का उपयोग किया जाता है।

(16) general (सामान्य / सेटिंग)

(A) Use blogger draft: इस विकल्प को ऑन करके आप अपने ब्लॉग को ड्राफ्ट में सेव कर सकते हैं।

जब तक आपका ब्लॉग ड्राफ्ट में सेव रहेगा, तब तक आपके ब्लॉग को गूगल इंडेक्स नहीं कर पाएगा।

(B) User profile: यह आपकी यूजर प्रोफाइल का विकल्प है, जो आपके ब्लॉग के होम पेज पर आप के रूप में दिखाई देती है। इस प्रोफाइल पर आप अपने बारे में बहुत कुछ जानकारी दें सकते हैं, अपने ब्लॉग पर आने वाले विजिटर्स को अपनी खुद की जानकारी दिखा सकते हैं।

 तो दोस्तों मुझे उम्मीद है, कि आपको हमारी यह पोस्ट बहुत पसंद आई होगी। और यदि आपको यह पोस्ट पसंद आई है, तो इसे अपने दोस्तों मैं शेयर करें। और नीचे कमेंट करें, कि आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी।

यदि आपका इस पोस्ट से रिलेटेड कोई भी सवाल है, तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में हमसे पूछ सकते हैं।

टिप्पणियां

  1. ब्लॉग के सन्दर्भ में बहुत ही विस्तृत रूप से समझाया है इसे पढ़ कर मेने अपने ब्लॉग की काफी सेटिंग्स कर ली है ।में यह जानना चाहता हूँ क्या में ब्लॉग के डिस्क्रिप्शन में कुछ कीवर्ड बाद में ऐड कर सकता हूँ इसके लिए क्या मुझे मेटा टैग में भी परिवर्तन करना होगा ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका यह कमेंट मुझे दो प्रश्न की ओर केंद्रित करता है।

      (1) क्या में ब्लॉग के डिस्क्रिप्शन में कुछ कीवर्ड बाद में ऐड कर सकता हूँ?

      (2) क्या मुझे मेटा टैग में भी परिवर्तन करना होगा?

      नंबर 2 सवाल मुझे ओर दो सवाल की ओर इशारा कर रहा है।

      [A] Blogger settings meta tag में परिवर्तन करना!

      [B] या मेटा टैग जेनरेटर कोड में परिवर्तन करना।

      चलिए आपके कमेंट का उत्तर विस्तार से देने की कोशिश करते हैं।

      प्रश्न (1) क्या में ब्लॉग के डिस्क्रिप्शन में कुछ कीवर्ड बाद में ऐड कर सकता हूँ?
      उत्तरः जी हां आप Blog description में कुछ कीवर्ड बाद में भी ऐड कर सकते हैं।

      प्रश्न (2) क्या मुझे मेटा टैग में भी परिवर्तन करना होगा?
      उत्तरः यदि आप [A] Blogger settings meta tag में परिवर्तन करने के बारे में कह रहे हैं तो आपको इसमें बदलाव करने की जरूरत नहीं है। क्योंकि 'ब्लॉग डिस्क्रिप्शन' और 'मिटा टैग' दोनों अलग-अलग है।

      उदाहरणः
      मेटा टैगः मैं हम अपने ब्लॉग से रिलेटेड कीवर्ड ऐड करते हैं, और
      ब्लॉग डिस्क्रिप्शनः मैं हम अपने ब्लॉग के बारे में कुछ जानकारी देते हैं, जैसे एक पैराग्राफ जो आपकी साइट के बारे में अच्छे से दर्शाता हो।

      यदि आप [B] मेटा टैग जेनरेटर कोड में परिवर्तन करने के बारे में कह रहे है, तो आपको अपने मेटा टैग डिस्क्रिप्शन कोड में परिवर्तन करने की जरूरत हैं। यानी जो आप ब्लॉग डिस्क्रिप्शन मैं बाद में कीवर्ड या कुछ भी बदलाव करते हैं। वह मेटा टैग डिस्क्रिप्शन कोड में ऐड कर सकते हैं।

      मुझे उम्मीद है, आपको आपके सवाल का जवाब मिला।

      हटाएं
  2. सादर प्रणाम आपके श्री चरणों में
    मैं ब्लॉग पर नया हूँ आप के द्वारा दी गई जानकारी मेरे लिए महत्वपूर्ण है ।मुझे आपके मूल्यवान समर्थन ओर मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी क्या आप मुझे अपना आशीर्वाद मुझे देंगे

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी जरूर, जब भी आपको मदद की जरूरत हो तब आप मेरी साइट की किसी पोस्ट में टिप्पणी के जरिए या संपर्क फॉर्म के जरिए हमारी मदद ले सकते हैं।

      टिप्पणी के लिए धन्यवाद

      हटाएं
  3. Aapka block bahut Achcha hai aur ise padh kar Main Apne blog Mein Kafi setting Ki Hai Kya Mujhe agar aap ki Aage sahayata ki jarurat Pade to aap meri sahayata Karenge

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी जरूर आपकी सहायता करने से हमें बहुत खुशी होगी।

      धन्यवाद

      हटाएं
  4. Sar blog website ke layout ke Vishay mein bhi vistar se ek post likhe jisse yah Pata chale gaye Hamen kis Prakar ke gadget ka use karna hai aapke bataen anusar main Sare Karya pure Karen per Fir Bhi Mera blog run nahin kar raha hai blog per Kitni post Hona chahie Mein new blogger hun aur Jyada Samajh Mein Nahin Aata

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी जरूर लेआउट विषय में भी हम पोस्ट बहुत जल्द लिखेंगे।

      रही बात आपके ब्लॉग के रन करने की तो इसमें कुछ समय लग सकता है। जब तक आपके ब्लॉग को गूगल ठीक तरह से समझेगा नहीं आपकी पोस्ट और कंटेंट गूगल को अच्छे क्वालिटी के नहीं लगेंगे तब तक आपका ब्लॉग गूगल पर अच्छा रैंक नहीं करेगा।

      और रैंकिंग उन टॉपिक पर भी निर्भर करती है, जिस पर आप अपना ब्लॉग लिख रहे हैं। यदि आप ऐसे टॉपिक पर पोस्ट लिख रहे हैं, जो गूगल के पास ऑलरेडी बहुत सारे हैं।

      तो आपको एक अच्छी रैंकिंग प्राप्त करने के लिए काफी समय लग सकता है।

      आपको अपने ब्लॉग पर तन और मन से काम करना होगा।

      फिर आप कुछ ही महीनों में देखेंगे कि आपका ब्लॉग गूगल में रैंक करने लगेगा।

      धन्यवाद!

      हटाएं
  5. Sar post publish karne ke bad kaun si setting karna chahie please is per artical likhen

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर उत्कृष्ट जानकारी, सर जी🙏, बहुत बहुत बधाई और हार्दिक शुभकामनाएँ🙏

    जवाब देंहटाएं
  7. सर जी मुझे सेटिंग में कठिनाई आ रही है, क्या करूँ 🙏

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके इस कमेंट के लिए बहुत धन्यवाद।

      ब्लॉगर की कौन सी सेटिंग मैं आपको कठिनाई आ रही है, मुझे बताएं।

      हटाएं
  8. सर प्रणाम आपके द्वारा दी गयी जानकारी मेरे जैसे नए ब्लॉगर के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।
    सर मेरा सवाल है अगर ब्लॉग पर पहले डोमिन की जगह गलती से दूसरा डोमेन भी जुड़ जाता है तो पहले डोमिन की सेटिंग कैसे करें उनके C name सेटिंग कैसे बदलें।
    क्योंकि सेटिंग में एक बार डोमिन एड होने पर दुबारा से डोमिन की सेटिंग का ऑपशन नही दिखा रहा मेरे साथ यह दिक्क्क्त हो गयी है।
    कृपया मार्गदर्शन कीजियेगा।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. यदि आपसे अपने ब्लॉग में गलती से कोई अलग डोमेन जुड़ गया है, तो आप उस डोमेन को अपने ब्लॉग सेटिंग से डिलीट कीजिए।

      डिलीट करने के बाद फिर वह डोमेन डालें जो आप अपने ब्लॉग में जोड़ना चाहते हैं।

      और वह डोमेन ब्लॉग सेटिंग में तब तक सेव नहीं होगा, जब तक आप डोमेन प्रदाता साइट पर C Name सेटिंग नहीं कर देते है।

      डोमेन को अपने ब्लॉग से कनेक्ट करने के लिए, डोमेन प्रदाता साइट पर जाएं, और C Name सेटिंग सेट अप करें।

      और फिर अपने ब्लॉग पर आकर डोमेन को सेव कर ले, आपका डोमेन ब्लॉग पर कनेक्ट हो जाएगा।

      हटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें

क्या आपने इस पोस्ट पर अपना 'Comment' किया है, यदि (नहीं) तो अभी करें।

आपके विचार सार्वजनिक है।

" धन्यवाद "

YouTube Channel Subscribe Now »
Facebook Page Following »

अब यहां पर खोजें